मॉडर्न पुलिसिंग के लिए 21 हजार सिपाही तैयार

0
91

विजयदूत न्यूज़ ब्यूरो

अमित शाह के सुझाव पर बीट सिस्टम बनाने में जुटा पुलिस विभाग

लखनऊ। प्रदेश के पुलिस महकमे को जल्द ही ऐसे सिपाहियों की एक बड़ी खेप मिलने जा रही है जो मॉडर्न पुलिसिंग के लिए जरूरी सभी मानकों पर खरी उतर सकेगी। इसमें लगभग 21 हजार सिपाही होंगे। प्रशिक्षण के दौरान इनके प्रदर्शन से विभागीय अधिकारी खासे उत्साहित हैं।

नागरिक पुलिस एवं पीएसी में 41520 पदों पर वर्ष 2018 में हुई भर्ती हुई थी। इसमें से 23520 पद नागरिक पुलिस के थे। परीक्षा के सभी चरणों में सफल अभ्यर्थियों में से लगभग 21 हजार सिपाही इस समय 94 ट्रेनिंग सेंटरों पर प्रशिक्षण ले रहे हैं। इसमें से 82 ट्रेनिंग सेंटर यूपी में ही हैं। इन सिपाहियों का प्रशिक्षण अब पूरा होने वाला है। जल्द ही इन्हें छह माह के व्यवहारिक प्रशिक्षण के लिए जिलों में भेजा जाएगा। जिलों में इन्हें संतरी, कोर्ट मोहर्रिर, थाना ड्यूटी और भीड़ नियंत्रण के कार्य में लगाकर प्रशिक्षण दिया जाएगा। प्रशिक्षण लेने वाले सिपाहियों में से महिला सिपाहियों की पासिंग आउट परेड 16 दिसंबर को पुलिस लाइंस लखनऊ में आयोजित की जाएगी। मुख्यमंत्री पासिंग आउट परेड की सलामी ले सकते हैं।

एलएमएस के जरिए एक साथ कराई पढ़ाई

सिपाहियों को मॉडर्न पुलिसिंग के लिए तैयार करने के उद्देश्य से पुलिस प्रशिक्षण निदेशालय ने लर्निंग मैनेजमेंट सिस्टम (एलएमएस) का सहारा लिया। इस तकनीक से मुख्यालय से ही सभी सेंटरों पर विशेषज्ञों के व्याख्यान कराए गए।  स्टेड मेडिकोलीगल हेड डॉ. जी. खान को बुलाया था तो प्राथमिक उपचार पर ट्रेनिंग देने के लिए केजीएमयू के फिजियोलॉजी विभाग के अध्यापक डॉ. मनीष श्रीवास्तव को। एडीजी डॉ. संजय एम. तरडे ने कहा कि इस बैच के सिपाही हर तरह से दक्ष हैं।

शाह के सुझाव पर बीट सिस्टम बनाने में जुटे

आल इंडिया पुलिस साइंस कांग्रेस में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह के सुझावों के बाद पुलिस विभाग बीट सिस्टम बनाने में जुट गया है। डीजीपी मुख्यालय शनिवार को पूरे दिन इसी कवायद में जुटा रहा। डीजीपी ओपी सिंह के निर्देश पर अधिकारी थाना स्तर पर मौजूद मैनपॉवर और बीट सिस्टम बनाने के लिए आंकड़े जुटाने में लगे रहे। वर्तमान में थानों पर सिपाहियों को बीट तो आवंटित है लेकिन उसके पास वैसे अधिकार या संसाधन नहीं हैं। सूत्रों ने बताया कि फिलहाल बीट सिस्टम के लिए पर्याप्त मैनपॉवर नहीं है लेकिन जल्द ही 21 हजार सिपाहियों की फील्ड तैनाती होने पर इसे लागू किया जा सकता है। बीट सिपाही को अपने क्षेत्र के लोगों के पासपोर्ट सत्यापन, चरित्र सत्यापन व शस्त्र लाइसेंस के आवेदन पर रिपोर्ट लगाने समेत अन्य सभी प्रकार के कार्य दिए जाएंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

− 1 = 6