‘मेरी क़लम’ साहित्य सेवा संस्थान द्वारा सुभाष चन्द्र बोस की जयंती पर किया गया काव्य गोष्ठी का आयोजन।

ब्यूरो चीफ अभिनव अग्रवाल की रिपोर्ट।

नजीबाबाद(बिजनौर)। मेरी क़लम साहित्य सेवा संस्थान नजीबाबाद के तत्वावधान में सुभाष चन्द्र बोस की जयंती तथा गणतंत्र दिवस के उपलक्ष में आचार्या फूल माला के सौजन्य से एक काव्य गोष्ठी का आयोजन रमेश नगर कालोनी में किया गया।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि सरस्वती शिशु मंदिर के प्रधानाचार्य अशोक वर्मा जी रहे कार्यक्रम की अध्यक्षता पटियाला बैंक के पूर्व मैनेजर अशोक अग्रवाल जी ने की
तथा विशिष्ट अतिथि अशोक सविता रहे। कार्यक्रम का शुभारंभ सभी अतिथियों ने मां शारदे के चित्र पर पुष्प अर्पित किए तथा दीप प्रज्वलित किया तत्पश्चात जयप्रकाश जौली की सरस्वती वंदना से कार्यक्रम प्रारंभ हुआ। संचालन संस्था की अध्यक्षा डॉ मंजु जौहरी मधुर ने किया।

काव्य पाठ :

डॉ मंजु जौहरी मधुर
“मैं अपने देश के गणतंत्र का सम्मान करती हूं।
तिरंगा हो कफ़न मेरा यही अरमान करती हूं।”

अजय जौहरी~
वीर सुभाष थे तुम तो मेरे भारत की पहचान।
किया देश की खातिर अपने प्राणों को बलिदान।

कविता नामदेव
‘दिल है शहीदों को याद करने का तिरंगा फहराने का
जाने कितने स्वतंत्रता सेनानियों के जान गवाने का’

आर्यन नामदेव
क्यों तू नारी को सताता है।
क्यों तू उसको हर इक बात समझाता है।

जयपाल सिंह आर्य
जनतंत्र तेरा अभिनंदन है।
गणतंत्र तेरा अभिनंदन है।

फूलमाला वर्मा
हुए बलि जो मातृभूमि पर,
हम पर कर्ज उन वीरों के।
अरी लेखनी गीत लिखो री,
भारत के रणधीरों के।।

अशोक सविता
जीवन एक नरक है सुख और दुःख मुख्य दो पात्र।

जयप्रकाश जौली
नज़र भर देख कर तुमको लिखी है शायरी मैंने।
तेरी तारीफ में लिख कर भरी है डायरी मैंने।

भागीरथ सिंह।
तेरी संतान हूं भगवन सभी गुण अपने तू देना।

कुमुद कुमार
देश का संविधान ही देश की गीता और कुरान है।
बलिदानियों के खून से लिखा गणतंत्र हमारा महान है।

डॉ बेगराज यादव
दिल में देश प्रेम की भावना जगाने दो।।
भारत माता की जय नारा लगाने दो

सुमन वर्मा
मुझको है प्यार मेरे वतन से
मुझे जान देनी है अपने वतन पे

कृष्ण अवतार वर्मा
छलिया सब उसको कहते हैं
पर दुनिया उसको छलती है।

कर्म वीर सिंह
“ये गाय बेचारी लाचारी
अब इतने दुःख सहती है।”

डॉ मनमोहन गुप्ता
“सपनों का महल जो बिना आधार खड़ा है।”

कार्यक्रम के अंत में संस्था के संस्थापक अजय जौहरी एवं मंजु जौहरी मधुर ने अपने अतिथियों को प्रतीक चिन्ह प्रदान करके सम्मानित तथा सभी को गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं देते हुए अतिथियों का आभार व्यक्त किया।