बस्ती के ट्री मैन, जो युवा विकास समिति के साथ मिल लगा चुके हैं हजारों पौधे।

विश्व पर्यावरण दिवस पर विशेष।

धर्मेन्द्र पाण्डेय और बृहस्पति पाण्डेय के अगुआई में होती है पौधों की देखभाल

बस्ती/ जनपद के दो युवा धर्मेन्द्र पाण्डेय और बृहस्पति पाण्डेय ग्‍लोबल वार्मिंग के खतरों से इतने संवेदित हुए की साल 2007 में इन लोगों नें युवाओं की अगुवाई में युवा विकास समिति नाम से एक सामाजिक संगठन बना कर पर्यावरण को बचाने की एक मुहिम छेड़ दी. वह लोगों के साथ मिल कर पिछले 15 सालो से पर्यावरण को बचाने के लिए विभिन्न फलदार, सहित तमाम पौधे लगा चुके हैं जो आज पूर्ण वृक्ष बन चुके हैं.

बृहस्पति पाण्डेय


इन युवाओं को को पेड़-पौधों के प्रति ये लगाव अचानक नहीं हुआ। पर्यावरण प्रदूषण के चलते जब इनका मन विचलित होने लगा. तब इन दोनों युवाओं ने एक नए अभियान की शुरुआत की. जिसके चलते अपने आस पास पौधों को रोपने की शुरुआत की जिससे रोपे गए जगहों को हरे-भरे पेड़-पौधों से भर दिया है. जिनमें मुख्यतः बेल, पीपल, कदंब और नीम के पेड़ हैं. इन पेड़ों की संख्या आज बढ़कर दस हजार से भी ज्यादा हो गई हैं.
पर्यावरण प्रेम से वशीभूत होकर युवा धर्मेन्द्र पाण्डेय और बृहस्पति पाण्डेय इस कार्य को हमेशा आगे बढ़ाते रहे. उन्होंने अपनी जिम्मेदारी सिर्फ वृक्ष लगाने तक ही सीमित नहीं रखी हैं, बल्कि वे स्वयं पेड़-पौधों की देख-रेख भी करते हैं. अगर कोई पेड़ सूख जाए, तो उन्‍हें उतना ही कष्‍ट होता है जितना एक बाप को अपने बच्‍चे की परेशानी देखकर होता है. वह पेड़ों को बच्‍चे की तरह पालते हैं.

धर्मेन्द्र कुमार पाण्डेय

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *