मंडलायुक्त ने स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों के त्याग और बलिदान को किया याद,लोगों से देश की एकता और अखंडता के लिए कार्य करने का किया आवाहन।

बस्ती। मण्डलायुक्त अनिल कुमार सागर ने स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर लोगों का आवाह्रन किया है कि वे स्वतंत्रता सग्राम सेनानियों के त्याग और बलिदान को याद करते हुए देश की एकता और अखण्डता के लिए कार्य करें। मण्डलायुक्त कार्यालय पर राष्ट्रीय ध्वज फहराने, राष्ट्रगान एवं उपस्थित अधिकारियो-कर्मचारियों को देश की एकता और अखण्डता का संकल्प दिलाने के पश्चात् सम्बोधित कर रहे थे। उन्होनें कहा कि वर्ग, जाति, भेद, भाषा से ऊपर उठकर हमें देश की एकता के लिए कार्य करना होगा। उन्होनें कहा कि सभी सरकारी अधिकारी कर्मचारी मनोयोग से अपने दायित्वां का निर्वहन करें। समय से सभी कार्य सम्पादित करें। उन्होनें कहा कि हम जहॉं भी रहें देश की एकता और अखण्डता के लिए लोगों को प्रेरित करें। जाति, धर्म एवं सम्प्रदाय से ऊपर उठकर राष्ट्र निर्माण का कार्य करें। उन्होनें कहा कि अंग्रेजो के अत्याचार से पीड़ित होकर लोगों ने एकजुट होकर उनका असहयोग करने का निर्णय लिया तथा उन्हें मजबूर किया कि वे भारत को आजाद करें। राउण्ड टेबल कांफ्रेन्स में अंग्रेज भारतियों को केवल प्रशासनिक व्यवस्था सौपना चाहते थे। महात्मा गॉधी ने इसको समझते हुए सम्पूर्ण आजादी के लिए असहयोग आन्दोलन चलाने का निर्णय लिया। उन्होनें कहा कि गॉधी जी के आदर्श आज भी प्रासंगिक है। हम एकजुट रहकर ही देश को प्रगति के रास्ते पर आगे ले जा सकते हैं। इस अवसर पर अपर आयुक्त प्रशासन बृजकिशोर, उप निदेशक पंचायत वीवी सिंह, डॉ0 शशि पाण्डेय ने समारोह को सम्बोधित किया। कार्यक्रम का संचालन जितेन्द्र श्रीवास्तव ने किया। इस मौके पर मनोज श्रीवास्तव, सुमन श्रीवास्तव, सुहेल अहमद, रणविजय सिंह, अयाज अहमद, रवीन्द्र श्रीवास्तव एवं अन्य अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे।

कलेक्ट्रेट में अपर जिलाधिकारी अभय कुमार मिश्र ने ध्वजारोहण किया। परिसर में उपस्थित सभी प्रशासनिक अधिकारी-कर्मचारी व गणमान्य नागरिको ने समवेत स्वर में राष्ट्रगान गाया। सभी ने आजादी के वीर सपूतो को याद करते हुए देश की एकता और अखण्डता के लिए अपने शासकीय कर्तव्यों का निर्वहन करने का संकल्प लिया। सभाकक्ष में आयोजित गोष्ठी को सम्बोधित करते हुए अपर जिलाधिकारी ने कहा कि आजादी हम अपने नैतिक मूल्यों से ही कायम रख सकते हैं। इसलिए हमारे कार्य व्यवहार में संवेदनशीलता होनी चाहिए। हमारे उपनिषदों में वर्णित है-“आत्मनः प्रतिकूलानि न समाचरेत।” अर्थात जो स्वयं को अच्छा न लगे ऐसा व्यवहार दूसरों के साथ नही करना चाहिए। मुख्य कोषाधिकारी डॉ0 श्रीनिवास त्रिपाठी ने कहा कि आत्म सुधार से ही देश का सुधार होगा। हमें देश को विकसित करने के लिए स्वयं में बदलाव लाने की जरूरत है। उप जिलाधिकारी न्यायिक आशाराम वर्मा ने गीत के माध्यम से कहा कि मूल्यों वाला जीवन जी कर दिल में हिन्दुस्तान रखों। जीजीआईसी की प्रवक्ता मानवी सिंह ने कहा कि निर्माणों के पावन युग में हम चरित्र निर्माण न भूले। मो0 मुजतवा ने चुपके-चुपके रात-दिन आसू बहाना याद है-वो जमाना याद है-गजल गाकर समा बाध दिया। कार्यक्रम का संचालन वरिष्ठ सहायक अशोक मिश्र ने किया। जीजीआईसी की छात्राओं ने देशगीत प्रस्तुत किया। छात्राओं को अपर जिलाधिकारी ने पुरस्कृत भी किया। इस अवसर पर उप जिलाधिकारी न्यायिक राजेश सिंह, सूर्यलाल, राधवेन्द्र शरण शुक्ला, सतेन्द्र पाण्डेय, रंगीलाल, रंजीत रंजन, रामकुमार पाल, साहित्यकार सतेन्द्रनाथ मतवाला, बाल संरक्षण अधिकारी बीना सिंह तथा कलेक्ट्रेट के अन्य अधिकारी-कर्मचारीगण उपस्थित रहें। इस अवसर पर अपर जिलाधिकारी अभय कुमार मिश्र, डिप्टी कलेक्टर आशाराम वर्मा, सरदार जगवीर सिंह ने गॉधी कला भवन जाकर महात्मा गॉधी तथा कम्पनीबाग चौराहे पर गुरू गोविन्द सिंह की मूर्ति पर माल्यार्पण किया।

विकास भवन में मुख्य विकास अधिकारी डॉ0 राजेश कुमार प्रजापति ने ध्वजारोहण किया राष्ट्रगान के बाद उपस्थित अधिकारियों-कर्मचारियों को राष्ट्रीय एकता संकल्प दिलाया। इस अवसर पर डीडीओ अजीत श्रीवास्तव, एआर क्वापरेटिव, सहायक निबन्धक सहकारिता प्रेम चन्द्र प्रजापति, मत्स्य अधिकारी संदीप वर्मा, डॉ0 राजेश कुमार, राजाशेर सिंह, रामदुलार, डीपीआरओ शिवशंकर सिंह, विनय कुमार दूबे, सावित्री देवी, अजीत सिंह, रामअधार पाल एवं अन्य अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *